एनीमिया की समस्या हो सकती है जानलेवा, इन लक्षणों से करें पहचान और ऐसे करें बचाव

हमारे शरीर में सभी पोषक तत्वों का होना अत्यंत आवश्यक है। ये पोषक तत्व न केवल हमारी सेहत को बनाए रखते हैं, बल्कि सही विकास और वृद्धि के लिए भी महत्वपूर्ण हैं। आयरन (Iron) भी इन्हीं महत्वपूर्ण पोषक तत्वों में से एक है, जो शरीर में कई आवश्यक कार्य करता है। यह रेड ब्लड सेल्स में मौजूद हीमोग्लोबिन नामक प्रोटीन का हिस्सा होता है, इसलिए इसका महत्व बहुत ज्यादा है। शरीर में आयरन की कमी एनीमिया (Anaemia) जैसी गंभीर स्थिति का कारण बन सकती है।

anemia diseases

हमारे शरीर में सभी पोषक तत्वों का होना अत्यंत आवश्यक है। ये पोषक तत्व न केवल हमारी सेहत को बनाए रखते हैं, बल्कि सही विकास और वृद्धि के लिए भी महत्वपूर्ण हैं। आयरन (Iron) भी इन्हीं महत्वपूर्ण पोषक तत्वों में से एक है, जो शरीर में कई आवश्यक कार्य करता है। यह रेड ब्लड सेल्स में मौजूद हीमोग्लोबिन नामक प्रोटीन का हिस्सा होता है, इसलिए इसका महत्व बहुत ज्यादा है। शरीर में आयरन की कमी एनीमिया (Anaemia) जैसी गंभीर स्थिति का कारण बन सकती है।

क्या है एनीमिया?

मायो क्लिनिक के अनुसार, एनीमिया एक ऐसी समस्या है जिसमें शरीर के ऊतकों तक ऑक्सीजन पहुंचाने के लिए पर्याप्त स्वस्थ रेड ब्लड सेल्स या हीमोग्लोबिन की कमी हो जाती है। हीमोग्लोबिन रेड ब्लड सेल्स में पाया जाने वाला प्रोटीन है, जो फेफड़ों से शरीर के अन्य हिस्सों तक ऑक्सीजन पहुंचाता है। एनीमिया होने पर निम्न लक्षण दिखाई देते हैं:

- थकान

- कमजोरी

- सांस लेने में कठिनाई

- पीली त्वचा

- दिल की अनियमित धड़कन

- चक्कर आना

- छाती में दर्द

- ठंडे हाथ और पैर

- सिरदर्द

एनीमिया के कारण

एनीमिया के कई कारण हो सकते हैं। कुछ लोगों में यह बीमारी जन्मजात होती है। अन्य कारणों में रेड ब्लड सेल्स का कम उत्पादन, अत्यधिक रक्तस्राव, और शरीर में आयरन, विटामिन-बी12, फोलिक एसिड की कमी शामिल हैं।

एनीमिया के प्रकार

- अप्लास्टिक एनीमिया

- आयरन डेफिशिएंसी एनीमिया

- सिकल सेल एनीमिया

- थैलेसीमिया

- विटामिन डेफिशिएंसी एनीमिया

एनीमिया से कैसे बचें?

सभी प्रकार के एनीमिया को रोकना कठिन है, लेकिन आयरन और विटामिन की कमी से होने वाले एनीमिया से बचा जा सकता है। इसके लिए आपको एक स्वस्थ आहार अपनाना चाहिए:

- आयरन की कमी से होने वाले एनीमिया से बचने के लिए आयरन से भरपूर खाद्य पदार्थ जैसे बीफ और अन्य मांस, बीन्स, दाल, आयरन-फोर्टिफाइड अनाज, हरी पत्तेदार सब्जियां और सूखे फल खाएं।

- फोलेट की कमी को दूर करने के लिए फोलिक एसिड से भरपूर फल और फलों के रस, हरी पत्तेदार सब्जियां, हरी मटर, राजमा, मूंगफली, ब्रेड, अनाज, पास्ता और चावल का सेवन करें।

- विटामिन बी-12 की कमी दूर करने के लिए मांस, डेयरी प्रोडक्ट्स और फोर्टिफाइड अनाज और सोया जैसे खाद्य पदार्थ खाएं।

- विटामिन सी की पूर्ति के लिए खट्टे फल और जूस, मिर्च, ब्रोकोली, टमाटर, खरबूजे और स्ट्रॉबेरी जैसे खाद्य पदार्थ अपनी डाइट में शामिल करें। ये खाद्य पदार्थ आयरन को अवशोषित करने में भी मदद करते हैं।