ज्यादा नमक सिर्फ सेहत को ही नहीं बल्कि त्वचा को भी नुकसान पहुंचाता है और एक खास स्किन कंडीशन का कारण बन सकता है

नमक हमारी रोजमर्रा की डाइट का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है, जिसके बिना भोजन का स्वाद अधूरा लगता है। लोग आमतौर पर इसे खाने का स्वाद बढ़ाने के लिए इस्तेमाल करते हैं। हालांकि, नमक का सेवन स्वाद के साथ-साथ सेहत पर भी गहरा असर डालता है। नमक में सोडियम प्रमुख तत्व होता है, जो हमारे शरीर के लिए आवश्यक है। उचित मात्रा में इसका सेवन फायदेमंद होता है, लेकिन अगर इसका अधिक सेवन किया जाए तो इससे गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं। खुद वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (WHO) ने भी अधिक नमक से होने वाले नुकसानों के बारे में चेतावनी दी है।

salt disadvantage

नमक हमारी रोजमर्रा की डाइट का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है, जिसके बिना भोजन का स्वाद अधूरा लगता है। लोग आमतौर पर इसे खाने का स्वाद बढ़ाने के लिए इस्तेमाल करते हैं। हालांकि, नमक का सेवन स्वाद के साथ-साथ सेहत पर भी गहरा असर डालता है। नमक में सोडियम प्रमुख तत्व होता है, जो हमारे शरीर के लिए आवश्यक है। उचित मात्रा में इसका सेवन फायदेमंद होता है, लेकिन अगर इसका अधिक सेवन किया जाए तो इससे गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं। खुद वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (WHO) ने भी अधिक नमक से होने वाले नुकसानों के बारे में चेतावनी दी है।

अधिक नमक के सेवन से स्वास्थ्य को होने वाले नुकसान के बारे में तो सभी जानते हैं, लेकिन हाल ही में अधिक नमक खाने को लेकर एक अध्ययन सामने आया है, जिसमें त्वचा पर इसके हानिकारक प्रभावों के बारे में बताया गया है। इस अध्ययन में अधिक नमक खाने और त्वचा की स्थिति एक्जिमा (Eczema) के बीच संबंध पर प्रकाश डाला गया है। आइए जानते हैं इस अध्ययन के बारे में विस्तार से:

क्या कहती है स्टडी?

इस नए अध्ययन से पता चला है कि अधिक सोडियम का स्तर एक्जिमा के खतरे को बढ़ा सकता है। जर्नल ऑफ इन्वेस्टिगेटिव डर्मेटोलॉजी में प्रकाशित इस अध्ययन में बताया गया है कि एक ग्राम अतिरिक्त सोडियम खाने से एक्जिमा फ्लेयर्स की संभावना 22 प्रतिशत तक बढ़ सकती है। शोध के अनुसार, अधिक नमक खाने की आदत को सीमित करने से एक्जिमा के मरीजों को अपनी स्थिति को नियंत्रित करने में मदद मिल सकती है।

क्या है एक्जिमा?

एक्जिमा एक ऐसी स्थिति है जिसमें आपकी त्वचा की बैरियर प्रक्रिया कमजोर हो जाती है। इसके परिणामस्वरूप त्वचा शुष्क, खुजलीदार और ऊबड़-खाबड़ हो जाती है क्योंकि त्वचा नमी बनाए रखने और बाहरी तत्वों से शरीर की रक्षा करने में सक्षम नहीं होती है। इसे एटोपिक डर्मेटाइटिस के नाम से भी जाना जाता है।

एक दिन में कितना नमक खाना सही?

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (WHO) के अनुसार, रोजाना 2000 मिलीग्राम से कम सोडियम यानी नमक का सेवन करने की सलाह दी जाती है। इसके अलावा, डब्ल्यूएचओ आयोडीन युक्त नमक खाने पर भी जोर देता है, जो आयोडीन से भरपूर होता है।

ज्यादा नमक खाने के अन्य नुकसान

- ऑस्टियोपोरोसिस का खतरा बढ़ जाता है।

- ब्लड प्रेशर बढ़ सकता है।

- शरीर में तरल पदार्थ का संतुलन बिगड़ जाता है।

- वाटर रिटेंशन की समस्या हो सकती है।

- किडनी पर दबाव बढ़ता है, जिससे किडनी खराब हो सकती है।

- शरीर के विभिन्न भागों में सूजन आ सकती है।